गेंहू हो जाएगा गायब!

कांसास स्टेट विश्वविद्यालय में  हुए एक अध्ययन में चेतावनी दी गई है कि यदि आवश्यक कदम न उठाए गए तो आगामी दशकों में क्लाइमेट चेंज के कारण मौसम का बिगड़ता मिजाज दुनिया की गेंहू की उपज को कम से कम एक चौथाई कम कर देगा.अगले तीस सालों में दुनिया की आबादी करीब 9.6 अरब होने का अनुमान है. उस वक्त वर्तमान से कम से कम दो गुने भोजन की जरूरत होगी.

wheat

गेंहू इस जरूरत को पूरा करने में अहम भूमिका निभाता रहा है. ऐसे में जब गेंहू का उत्पादन ही कम हो जाएगा, तब क्या स्थिति होगी, इसकी कल्पना करना कोई मुश्किल नहीं है.इस चौंका देने वाले अध्ययन में बताया गया है कि ऐहतियाती उपायों को अमल में न लाना, तापमान में प्रत्येक सेल्सियस की वृद्धि के साथ गेंहू के उत्पादन में छह प्रतिशत की गिरावट का कारण बन सकता है. . इस गिरावट को जेनेटिक बदलावों और फसल प्रबंधन के जरिए कुछ हद तक कम किया जा सकता है.

yes(0)no(0)
Filed in: Planet Next Tags: 

You might like:

ब्रेनटॉप के लिए रेडी हैं? ब्रेनटॉप के लिए रेडी हैं?
2045:  एक ह्यूमैन ओडिसी 2045: एक ह्यूमैन ओडिसी
85% कम होगा एचएफसी जेनरेशन 85% कम होगा एचएफसी जेनरेशन
सारे काम रोबोट करेगा और इंसान? सारे काम रोबोट करेगा और इंसान?
© 2018 A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.