अं​तरिक्ष में जाएगी व्योममित्रा

यह किसी विज्ञान फंतासी के सच होने जैसा है, इसी सप्ताह इसरो ने अपने मानवरहित ​महत्वाकांक्षी मिशन गगनयान में एक फीमेल एस्ट्रोनॉट्स को भेजने की घोषणा कर सबको एक सरप्राइज दिया है. सरप्राइज यह है कि यह फीमेल एस्ट्रोनॉट्स कोई मनुष्य नहीं, बल्कि एक ह्यूमैनायड रोबोट है, जिसे दिसंबर 2021 में भेजे जाने वाले मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन गगनयान के पहले के अभियान के लिए चुना गया है.


इसरो अपने गगनयान मिशन से पहले दो मानवरहित टेस्ट मिशन लॉन्च करेगी. जिनमें पहला इसी साल दिसंबर में और दूसरा अगले साल जून—जुलाई में लॉन्च किया जाएगा, जिसमें व्योममित्रा को गगनयान में बिठाकर स्पेस में भेजा जाएगा. अंतरिक्ष में यह अर्धमानव रोबोट व्योममित्रा आखिर क्या करेगी, इस बारे में उसका कहना है कि वह पूरे यान के मापदंडों पर निगरानी रखेगी, संबंधित व्यक्तियों को सचेत करेगी और जीवनरक्षक प्रणाली का काम देखेगी.
व्योममित्र में ह्यूमन बॉडी से संबंधित कुछ मशीनें लगाई गई हैं ताकि ये इंसानों की तरह ही काम कर सके. स्विच पैनल के संचालन सहित विभिन्न काम करने में सक्षम व्योममित्रा अंतरिक्षयात्रियों के सवालों के जवाब दे सकती हैं. ये एक दोस्त हो सकती है, जिससे अतंरिक्षयात्री बात कर सकते हैं. यही नहीं, वह इंसानों की पहचान भी कर सकती है.

फिलहाल मानवरहित मिशन में इसका इस्तेमाल पर्यावरण कंट्रोल सपोर्ट सिस्टम को टेस्ट करने के लिए होगा. ये अतंरिक्षयात्रियों की तरह की काम करेगी और जानकारी देगी कि गगनयान की सारी प्रणाली सही से काम कर रही है कि नहीं. व्योममित्रा को भेजने का मकसद यह है कि वह स्पेस में जाकर ह्यूमन बॉडी में होने वाले बदलावों की रिपोर्ट इसरो को भेज सके ताकि सुरक्षा और तकनीकी मानकों की जांच की जा सके और मानव मिशन में कोई भी गलती न हो.

Filed in: Khabar Next, Mission Space Tags: 

You might like:

एस्ट्रोनाॅट्स की हेल्प करेगा रोबोट एस्ट्रोनाॅट्स की हेल्प करेगा रोबोट
2021 में लाॅन्च होगा इसरो-नासा का सेटेलाइट 2021 में लाॅन्च होगा इसरो-नासा का सेटेलाइट
कम पड़ जाएगा दूध ! कम पड़ जाएगा दूध !
दो  साल और चुप रहेगी बिग बेन दो साल और चुप रहेगी बिग बेन
© A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.