नेवी में नया विक्रांत !

देश के पहले विमानवाहक जहाज विक्रांत (आईएसी-1) के अगले साल की शुरुआत में पूरा होने और एक साल के ट्रायल के बाद नौसेना में शामिल होने की उम्मीद की जा रही है. इसमें मिग-29 विमानों का बेड़ा होगा, जो देश की नौसेना को किसी भी आपात स्थिति से निपटने में और अधिक सक्षम बनाएगा.


कोचीन शिपयार्ड द्वारा निर्मित विक्रांत की लंबाई 262 मीटर, गहराई 25.6 मीटर और विस्थापन 40 हजार टन है, जिसे 12 अगस्त 2013 को लाॅन्च किया गया था. जिस समय इसकी योजना बनी थी, इसकी लागत आधा बिलियन डाॅलर आंकी गई थी, जो अब करीब सवा तीन बिलियन डाॅलर तक पहुँच गई है.
इसे भारत के मैजेस्टिक क्लास एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रांत का नाम दिया गया है, जो साढ़े तीन दशक से भी ज्यादा समय तक देश की सेवा करने के बाद 31 जनवरी 1997 को रिटायर कर दिया गया था और सितंबर 2014 में स्क्रैप में बदल दिया गया.

श्वेता अग्रवाल

Filed in: India Next, Khabar Next

You might like:

डिलिरो करेगा डिलीवरी डिलिरो करेगा डिलीवरी
एज का क्रेज एज का क्रेज
डाॅन्ट मिस इट… डाॅन्ट मिस इट…
कुतुबमीनार X 5 = चिनाब ब्रिज कुतुबमीनार X 5 = चिनाब ब्रिज
© A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.