इसरो की हमसफर बनेगी जाक्सा

जब भी अंतरिक्ष अभियानों की बात चलती है, हमारी सोच कभी इसरो, नासा, रोसकोमोस (रूस) और सीएनएसए से आगे जा ही नहीं पाती, लेकिन जापान की स्पेस एजेंसी जाक्सा भी इस क्षेत्र में कुछ कम नहीं है.

Image Courtesy : https://global.jaxa.jp/

जाक्सा और इसरो मिलकर एक नई उड़ान की तैयारी में हैं. लूनर पोलर एक्सप्लोरेशन नाम के इस स्पेस मिशन में पहली बार लैंडर और रेवर को चंद्रमा की सतह पर उतारा जाएगा. इस साझा एलपीई मिशन में जापान लैंडिग मोड्यूल और रोवर को बनाने का काम करेगा, इसरो ने लैंडर सिस्टम के डेवलपमेंट का जिम्मा लिया है.

सूत्रों के मुताबिक, इसरो पहले 2022 में अपने महत्वाकांक्षी मिशन गगनयान, जो कि देश का पहला मानवयुक्त स्पेस प्रोग्राम है, को लॉन्च करेगा, इसके बाद 2023 के अंत में या 2024 में एलपीई को जापान से एच—3 रॉकेट द्वारा लॉन्च किया जाएगा.

​मिशन का मकसद है चंद्रमा पर मौजूद जल संसाधनों में, जिनका पता ​विगत मिशनों के दौरान चला है, जल की मात्रा, गुणवत्ता व अन्य परिस्थितियों के बारे में और अधिक जानकारी हासिल करना है.

इसरो का एक अन्य महत्वपूर्ण करार आर्यभट्ट प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान (एरीज) के साथ हुआ है. जिस पर काम करते हुए देश के दोनों अग्रणी संस्थान अंतरिक्ष में घूमते जंक आॅब्जेक्ट्स से भारतीय सैटेलाइटों को बचाने के लिए और अंतरिक्ष में मौसम के अध्ययन जैसे कामों में एक—दूसरे का सहयोग करेंगे. साथ ही दोनों खगोल भौतिकी से संबंधित अध्ययनों और अभियानों में सामने आने वाली चुनौतियों और उनसे निपटने के उपायों की रूपरेखा बनाने की दिशा में भी काम करेंगे.

Filed in: Khabar Next, Mission Space Tags: 

You might like:

अवतार के सीक्वल अवतार के सीक्वल
© A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.