तिगुना हो जाएगा बाजार

कंसल्टेंसी फर्म बीसीजी की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अगले आठ सालों में भारत का उपउपभोक्ता बाजार मौजूदा 110 लाख करोड़ से तीन गुना बढ़कर 335 लाख करोड़ हो जाएगा, जो कि 2008 से निरंतर 13 फीसदी की दर से बढ़ रहा है. अगर सिर्फ मेट्रो की बात की जाए तो यह दर 168 फीसदी है. यह दर दुनिया के दूसरे उभरते देशों की तुलना में करीब बीस फीसदी ज्यादा है.

अंतर्राष्ट्रीय संगठन डेलॉय के इंडिया चैप्टर की रिपोर्ट का अनुमान है कि देश का ई—कॉमर्स बाजार अगले साल तक करीब 84 अरब डॉलर का हो जाएगा, जबकि रिटेल कारोबार के 1.2 ट्रिलियन डॉलर तक पहुँचने की उम्मीद की जा सकती है. 2026 तक यह हर साल 7.8 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा.

ज्ञातव्य है कि इसी संगठन की दो साल पहले की रिपोर्ट में आशा व्यक्त की गई थी कि भारत वर्ष 2030 तक के चीन और अमेरिका जैसी विश्व की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को पीछे छोड़कर विश्व का तीसरा सबसे बड़ा मध्यम वर्ग उपभोक्ता बाजार बन जाएगा.

Filed in: India Next, Khabar Next Tags: 

You might like:

85% कम होगा एचएफसी जेनरेशन 85% कम होगा एचएफसी जेनरेशन
© A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.