इक्वल इन्कम =चीटप्रूफ रिलेशनशिप

अमेरिकन सोशियोलाॅजिकल रिव्यू में पब्लिश्ड एक  स्टडी रिवील करती है कि अगर आपको अपनी मैरिड रिलेशनशिप को चीटप्रूफ बनाना है तो दोनों पार्टनर्स की इन्कम इक्वल होनी चाहिए, क्योंकि जब एक पार्टनर, दूसरे से ज्यादा मनी अर्न करता है तो दूसरे के चीट करने की पाॅसिबिलिटीज बढ़ जाती है और यह दूसरा अगर मेल है तो और भी ज्यादा.
love_FotoSketcher
32 इयर से कम एज वाले 2,800 मैरिड पीपुल पर की गई इस स्टडी के बाद  रिसर्चर क्रिस्टीन म्यून्श, यूनिवर्सिटी आॅफ कनेक्टिकट में सोशियोलाॅजिस्ट, ने यह कन्क्ल्यूजन निकाला कि मेल और फीमेल पार्टनर में कम अर्न करने वाला पार्टनर, स्पेशियली हसबैंड, चीटिंग करने में गिल्ट फील नहीं करता. इंट्रेस्टिंगली, म्यून्श की स्टडी यह भी रिवील करती है कि अगर मैन अपनी वाइफ से काफी ज्यादा अर्न करते हैं तो उनके चीट करने की पाॅसिबिलिटीज ज्यादा होती हैं, जबकि हसबैंड से ज्यादा अर्न करने वाली महिलाओं के अनफेथफुल होने के चांसेज कम्पेयरटिवली कम होते हैं.
म्यून्श ने यह स्टडी कंडक्ट करते हुए पार्टिसिपेंट्स से डायरेक्ट चीटिंग के बारे में न पूछ कर उनसे उनके मैरिटल स्टेटस, प्रीवियस इयर्स में उनके सेक्स्युअल पार्टनर्स जैसी बातों के बारे में क्वेश्चंस पूछे, जिससे वे जवाब देने में अनकम्फर्टेबल फील न करें. क्योंकि उन्हें मालूम था कि अगर उन्होंने डायरेक्ट ये पूछा कि क्या वे अपने पार्टनर से चीटिंग करते रहे हैं, तो ज्यादातर झूठे रिप्लाई ही मिलेंगे.
म्यून्श के अकाॅर्डिंग अपनी वाइफ से कम अर्न करने वाले मेल का एक स्माल नंबर अपनी इंडीपेंडेंस का डेमोन्स्ट्रेशन करने की नीड फील करता है और चीटिंग के रास्ते पर बढ़ जाता है. प्रीवियस रिसर्च यह सजेस्ट करती हैं कि जब वाइफ हाउस में बेडअर्नर होती है तो हसबैंड यह फील करता है कि वह अपनी ट्रेडीशनल रिस्पाॅन्सिबलिटीज निभाने में फेल रहा है.

 

yes(0)no(0)
Filed in: A-zone

You might like:

एशिया की पहली इनोवेशन गैलरी 26 अप्रैल से एशिया की पहली इनोवेशन गैलरी 26 अप्रैल से
अलीगढ़ Express अलीगढ़ Express
सोनभद्र  Express सोनभद्र Express
संघर्ष से होकर जाती है सफलता की राह…. संघर्ष से होकर जाती है सफलता की राह….
© 9232 A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.