List/Grid Editor's Desk Subscribe RSS feed of category Editor's Desk

जिंदगी की कील पे वक्त के कलेंडर

जिंदगी की कील पे वक्त के कलेंडर

बस कुछ ही पल बाद वक्त फिर बदल जाएगा…हर क्षण, हर पल बदलता है. लेकिन, अभी का बदलना किसी क्षण का या पल का बदलना नहीं है. यह बदलना है, जैसे… Read more »

नोटो पर कसीदाकारी

नोटो पर कसीदाकारी

 नए करेंसी नोटों से जुड़ी एक खबर पिछले दो-तीन दिनों से फेसबुक पर काफी पब्लिश और शेयर की जा रही है, जिसमें रिजर्व बैंक के एक सर्कुलर का हवाला देते… Read more »

ट्रम्प कार्ड !

ट्रम्प कार्ड !

इंडिया में पिछले कुछ सालों से चुनावी नतीजों ने हवाओं के रुख और चुनावी कयासों को लगातार ठेंगा दिखाना जारी रखा है, लेकिन अमेरिका में ऐसी कल्पना किसी ने नहीं… Read more »

एक बड़ा, मगर जरूरी शाॅक

एक बड़ा, मगर जरूरी शाॅक

कुछ देर पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बड़ा क्रांतिकारी फैसला लेते हुए आज रात 12 बजे से 1000/- और 500/- के नोटों का कानूनी दर्जा समाप्त करने की घोषणा… Read more »

चिन्ह देखा, अब चेहरा देखो

चिन्ह देखा, अब चेहरा देखो

कुछ ही महीनों में होने जा रहे उ.प्र. विधानसभा चुनावों को लेकर एक उड़ती-उड़ती लेकिन चौंकाने वाली खबर आई है कि इस बार ईवीएम यानी इलेक्ट्राॅनिक वोटर मशीन, जिस पर… Read more »

वार एंड पीस

वार एंड पीस

एक बार फिर पाकिस्तान ने अपनी कायराना हरकत दोहराई है. उसके प्रायोजित आतंकवाद ने फिर से हमारे जवानों की बलि ले ली है. कश्मीर के उरी में आज सवेरे हुई… Read more »

देवनागरी का मानकीकरण

देवनागरी का मानकीकरण

आज हिंदी दिवस है. हर साल इस अवसर पर हिंदी के प्रचार-प्रसार-विस्तार पर बहुत ज्यादा चर्चाएं होती हैं, बहुत से सार्थक कार्य भी होते हैं. लेकिन एक महत्वपूर्ण पक्ष पर… Read more »

टिट फाॅर ट्वीट

टिट फाॅर ट्वीट

बीते दो-तीन सालों से देश में एक नए किस्म की वार, ट्वीट वार का दौर चल निकला है. हर पखवाड़े, कहीं न कहीं कोई न कोई इसका आगाज कर देता… Read more »

एलियंस के खतरे के बीच

एलियंस के खतरे के बीच

रीसेंटली ब्राजील के साउलो पाउलो में एक स्ट्रेंज इंसीडेंट हुआ, जिसमें ईंट- सीमेंट से बने दो बुकस्टोर रातोंरात गायब हो गए. अगली सुबह शाॅपकीपर्स मार्केट पहुंचे तो उनकी जगह उन्होंने… Read more »

जि़ंदगी नेक्स्ट, एक बार फिर

जि़ंदगी नेक्स्ट, एक बार फिर

दोस्तों, एक लंबे ब्रेक के बाद ज़िंदगी नेक्स्ट, एक बार आपके सामने है. बदलाव की प्रक्रिया से गुजरने में हमें जरूरत से करीब डेढ़ माह लग गया, लेकिन ज़िंदगी नेक्स्ट… Read more »

© 2019 A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.