List/Grid Editor's Notes Subscribe RSS feed of category Editor's Notes

चिर यौवन की कामना

चिर यौवन की कामना

ययाति का नाम आपने जरूर सुना होगा… भारतीय पुराकथाओं का यह किरदार वृद्धावस्था में पहुँचने पर अपने युवा पुत्र पुरू से उसके यौवन के वर्ष दान में लेता है, ताकि… Read more »

प्रिय सा​थियों,

प्रिय सा​थियों,

आज से जिंदगी नेक्स्ट दसवें वर्ष में पदार्पण कर रही है. यकीनन अगर हम इतना लंबा सफर तय करने में कामयाब हुए हैं तो यह आपके प्यार और साथ की… Read more »

न साजिश, न सच

न साजिश, न सच

ग्लैमर की दुनिया के साथ सबसे बड़ी त्रासदी यही है कि यहाँ होने वाले हादसों में भी ग्लैमर तलाशते हैं. नहीं मिलता, तो अपने—अपने कयासों से पैदा करते हैं. ताजा… Read more »

किसकी बात, किसका मुंह

किसकी बात, किसका मुंह

मुर्गी चुराए चौधरी, डंडे खाए चौकीदार… यह कहावत आजकल सोशल मीडिया पर अक्सर चरितार्थ होते देखी जा सकती है. अक्सर हम सोशल मीडिया, खासकर फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर ऐसे—ऐसे महान… Read more »

पहला पत्थर वो मारे…

पहला पत्थर वो मारे…

पिछले कुछ सालों से, पोस्ट कोविड इरा में तो और भी ज्यादा, लगातार ऐसी घटनाएं सामने आ रही हैं, जब सोशल मीडिया मुद्दों को प्रभावित करने में न सिर्फ एक्टिव,… Read more »

स्टुपिड जीनियस

स्टुपिड जीनियस

90 प्रतिशत लोग इसका सही जवाब देने में नाकाम रहे हैं, सिर्फ 10 प्रतिशत जीनियस लोग ही सही बता पाए हैं, अक्सर फेसबुक ग्रुपों में आपने ऐसे टाइटिल वाली पोस्ट… Read more »

आप किसके साथ हैं

आप किसके साथ हैं

सोशल मीडिया की दुनिया अगर आभासी न होकर वास्तविक होती तो शायद उसमें हर समय कहीं न कहीं, कोई न कोई हंगामा बरपा होता. गनीमत है कि यह सारी जुबानी… Read more »

सच दिखा क्या कहीं?

सच दिखा क्या कहीं?

फेसबुक और इंस्टा पर टीवी चैनलों की भीड़ से घिरी रिया चक्रवर्ती को देखकर आप भी हलकान हुए होंगे. क्योंकि आप यह तो कतई नहीं मानते होंगे कि सारा सच… Read more »

अंधश्रद्धा और हम

अंधश्रद्धा और हम

आस्था और अंधश्रद्धा में फर्क कर पाना बहुत मुश्किल काम है. क्योंकि दोनों के बीच की रेखा इतनी बारीक है कि कब हमारे कदम इधर से उधर पड़ने लग जाते… Read more »

इतनी संपदा का क्या करेंगे?

इतनी संपदा का क्या करेंगे?

मिलियन,बिलियन,ट्रिलियन तक तो आपने सुना होगा, लेकिन क्या क्वाड्रिलियन का मतलब जानते हैं? हिंदी में यह संख्या एक करोड़ शंख के बराबर होती है. अभी भी नहीं समझे ना? चलो… Read more »

एक जोक हो जाए

एक जोक हो जाए

टेल ए जोक डे ( 16 अगस्त ) : जोक्स तो आपने भी खूब सुने होंगे, सुनाए होंगे. लेकिन, क्या कभी आपने सोचा है कि आपको कुछ ही जोक्स क्यों… Read more »

भीड़ के बीच अकेला…

भीड़ के बीच अकेला…

सोशल मीडिया के बारे में अक्सर कहा जाता है कि इसने दुनिया को एक ग्लोबल विलेज में बदल दिया है या यह वसुधैव कुुटुम्बकम् की अवधारणा को साकार कर रहा… Read more »

© 8076 A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.