अलीगढ़ Express

aks- strip

छात्र-छात्राओं नें की 650 मीटर वाल पेंटिग

capture.

अलीगढ में प्रस्तावित डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरीडोर की अहम बैठक के लिये जिला प्रशासन सहित युवाओं में भी उत्साह देखा जा रहा है। 11 अगस्त को शहर के रॉयल रेजीडेंसी हॉटल में होनें जा रही बैठक में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण सहित वीवीआईपी मेहमानों के स्वागत के लिये शुक्रवार को अलीगढ के वाष्णर्य महाविधालय के छात्र-छात्राओं नें मेहमानों के यात्रा मार्ग आगरा अलीगढ बाईपास फ्लाई ओवर की दीवार पर 650 मीटर बेहतरीन वाल पेंटिंग तैयार की। इसमें स्मार्ट सिटी,रक्षा उपकरणों एवं स्वच्छ भारत मिशन,अलीगढ के ताला तालीम की थीम पर पेंटिंग बनाई।

पेंटींग बनानें में 256 कलाकारों नें 9 घंटे की कडी मेहनत की। इस अवसर पर जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह नें नगर आयुक्त सत्य प्रकाश पटेल एवं कलाकारों के प्रयास को सराहा।नगर आयुक्त अन्य प्रमुख मार्ग पर इसी तरह पेंटिंग करानें की बात कही। जिलाधिकारी नें छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत करनें एवं 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर परिणाम की घोषणा करनें की बात कही। एसएसपी अजय सहानी ने भी बच्चों की प्रतिभा देख हौंसला बढाया। पेंटिंग बनानें प्रमुख रूप से महाविधालय के छात्र प्रदीप राज,नवनीत,निधि का सहयोग रहा।

By Rohit Saxena from Aligarh (U.P.) 202001

हनुमान जी गिलहरी स्वरूप में

आपने हनुमान जी के बहुत से मंदिर देखे होंगे। जहां अधिकांश एक जैसी ही प्रतिमा स्थापित होती है लेकिन आज हम एक ऐसे मंदिर के बारे में बताते हैं जहां हनुमान जी गिलहरी स्वरूप में विराजमान हैं।

Capture

अलीगढ़ के प्राचीन प्रसिद्ध अचल सरोवर के किनारे स्थापित श्री गिलहराज जी महाराज का मंदिर विश्व भर में अनोखा है। यहां भगवान हनुमान गिलहरी के रूप में विराजमान हैं। प्रत्येक मंगलवार और शनिवार के दिन मन्दिर पर भक्तों की सर्वाधिक भीड रहती है। हनुमान जयंती के दिन यहां से हनुमान जी का मेला निकलता है। मान्यता है कि यहां लड्डुओं का भोग लगने से भक्तों के हर संकट दूर हो जाते हैं।

हर बीस मिनट बाद होती है आरती एवं श्रृंगार

विश्व भर में अनोखे गिलहराज जी महाराज के इस मंदिर की खास बात यह है कि यहां हर बीस मिनट बाद हनुमान जी की आरती होती है। जिससे मंदिर में आने वाले हर भक्त को आरती में शामिल होने का मौका मिलता है।

capture 1

लगभग पांच हजार वर्ष पुराना है मंदिर

मंदिर के महंत कौशलनाथ जी बताते हैं कि मंदिर लगभग पांच हजार वर्ष पुराना है। मान्यता है कि श्री गिलहराज जी महाराज के विग्रह रूप की खोज महंत महेंद्र योगी महाराज ने की थी। जो नाथ सम्प्रदाय के परम सिद्ध योगी थे। जिन्हें स्वप्न में श्री हनुमान जी महाराज का साक्षात्कार हुआ था।

द्वापर युग में दाऊजी ने की थी प्रथम पूजा

मान्यता है कि श्री गिलहराज जी महाराज के मंदिर में विराजमान हनुमान जी के गिलहरी रूप की पूजा सबसे पहले भगवान श्री कृष्ण के भाई दाऊजी महाराज ने की थी। सारे विश्व भर में गिलहरी के रूप में हनुमान यही देखने को मिलते हैं।

चोला चढ़ाने से मिलती है मुक्ति

मान्यता है कि श्री गिलहराज जी महाराज के इस मंदिर में विराजमान हनुमान जी के गिलहरी स्वरुप में जो आकृति है उसके एक हाथ में लड्डू व् चरणों में नवग्रह दबे हुए हैं। इसलिए यहां पर चोला चढ़ाने से नवग्रह से मुक्ति मिलती है। इसलिए गिलहराज जी को ग्रह-नर-राज भी कहा जाता है। जिसका अर्थ ग्रहों को हराने वाला है।

ये है मान्यता

गिलहराज जी महाराज का मंदिर में मौजूद हनुमान जी का गिलहरी स्वरुप उस समय की याद दिलाता है जब वानरों के द्वारा रामसेतु का निर्माण कार्य चल रहा था। तब भगवान हनुमान बड़े बहे पत्थरों से पुल बना रहे थे तभी श्री राम ने कहा कि हनुमान बड़े बड़े पत्थरों से स्वयं पुल बना देंगे तो अन्य देवता जो वानर रूप में मौजूद थे वह इस सेवा से वंचित रह जाएंगे। इसलिए आप विश्राम कर लें प्रभु राम की आज्ञा से हनुमान वहां से गए लेकिन राम कार्य में हनुमान विश्राम नहीं कर सकते थे इसलिए हनुमान गिलहरी का रूप रखकर आये और बालू पर लोट लगाकर बालू के कण छोड़ने का कार्य कराते रहे। लेकिन प्रभु राम ने उन्हें पहचान लिया और उनके गिलहरी स्वरुप को प्यार से अपने हाथ पर बैठकर दुलार किया। आज भी श्री गिलहरी महाराज के शरीर पर जो तीन लकीरें है वह प्रभु श्री राम की उगलियों के निशान के रूप में दिखाई देती हैं।

By Rohit Saxena from Aligarh (U.P.) 202001

yes(1)no(0)
Filed in: Aks24x7, Khabar Next

You might like:

एशिया की पहली इनोवेशन गैलरी 26 अप्रैल से एशिया की पहली इनोवेशन गैलरी 26 अप्रैल से
अलीगढ़ Express अलीगढ़ Express
सोनभद्र  Express सोनभद्र Express
संघर्ष से होकर जाती है सफलता की राह…. संघर्ष से होकर जाती है सफलता की राह….
© 0352 A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.