और गरमाएगी धरती !

विशेषज्ञ वर्षों से बार—बार बढ़ते तापमान की आशंकाओं और इसके दुष्परिणामों के प्रति चेतावनियां जारी करते आ रहे हैं, लेकिन दुनिया अभी भी इन्हें गंभीरता से नहीं ले रही है.

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की ताजा रिपोर्ट में फिर से चिंता जताई गई है कि 2025 तक ऐसे कुछ मौके आ सकते हैं, जब वैश्विक तापमान में डेढ़ डिग्री सेल्सियस की बढ़ोत्तरी महसूस की जा सकती है.

पाँच साल दुनिया के कई प्रमुख देशों के बीच पहले पेरिस समझौता हुआ था, जिसमें ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को कम करते हुए तापमान वृद्धि की दर को दो ​डिग्री सेल्सियस से नीचे बनाए रखने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था.

इस रिपोर्ट के अनुसार दुनिया 19वीं शताब्दी के अंतिम सालों की तुलना में 1.1 डिग्री सेल्सियस ज्यादा गर्म हो चुकी है और बीते पांच साल, 2010 से 2015 के बीच के पांच सालों से अधिक गर्म रहे हैं. यूएन द्वारा जारी की गई 2018 रिपोर्ट में आगाह किया गया था कि यह डेढ़ डिग्री की बढ़ोत्तरी 2030 से 2052 के बीच हो सकती है. लेकिन, अभी पाया गया है कि यह तापमान अपेक्षाकृत ज्यादा तेज गति से बढ़ रहा है और यह वृद्धि अगले दस सालों के भीतर यानी 2030 तक ही हो जाएगी.

Filed in: Planet Next

You might like:

न भौंकेगे, न काटेंगे न भौंकेगे, न काटेंगे
डिलीट योर अकाउंट डिलीट योर अकाउंट
बनाओ अपनी रिंगटोन बनाओ अपनी रिंगटोन
चीटिंग  के  चांसेज चीटिंग के चांसेज
© 9973 A touch of tomorrow !. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by Theme Junkie.